दिल्ली की राजनीती में भारी उथल पुथल

 

 Turn around in Delhi Politics, AAP government in delhi faces trouble

aap government in delhi

दिल्ली का सियासी माहौल इन दिनों पुरे उफान पर है ।  आप के एक विधायक विनोद कुमार बिन्नी ने कहा था कि वह  प्रेस कॉन्फ्रेन्स में आप और अरविन्द केजरीवाल के बारे में कुछ चौंकाने वाले राज खोलेंगे । माहौल तो गरम होना ही था, रही सही कसर पार्टी में नयी आयीं टीना शर्मा ने भी बगावती सुर अख्तियार कर पूरी कर दी। दिल्ली के कानून मंत्री अभी साक्ष्यों से छेड़छाड़ मामले से उभर भी नहीं पाये थे कि कल रात उनकी दिल्ली पुलिस से फिर बहस हो गयी जिसकी शिकायत दिल्ली पुलिस माननीय उपराज्यपाल से करने की बात कह रही है, हालाँकि सोमनाथ भारती ने कल रात कुछ भी गलत नहीं किया और न ही कहा था।  जनता इसी बात से अंदाजा लगा सकती है कि जब दिल्ली पुलिस एक मंत्री कि बात को अनसुनी कर सकती है फिर आम जनता कि बात को क्या सुनती होगी।  आप की एक और मंत्री राखी बिड़ला कि भी कल रात पुलिस के साथ कुछ बहस हुई, दिल्ली पुलिस इसकी भी शिकायत माननीय उपराज्यपाल से करने वाली है।

आप में जबसे नए और प्रभावशाली लोगों के आने का सिलसिला शुरू हुआ है, उस समय से ये ये लगने लगा था कि अधिकतर लोग सिर्फ अपनी महत्वकांशा और लोलुपता के लिए आ रहे हैं न कि देश सेवा के लिए। ‘आप’ को चाहिए कि वो तत्काल इस दिशा में कड़े कदम उठाये अन्यथा ये कारन धीरे-धीरे पार्टी को अंदर ही अंदर खोखला कर देगा।  साथ ही आप पार्टी के हर नेता को चाहिए कि वो संयम से काम ले एवं कुछ भी प्रेस में कहने से पहले उसमे अपने सहयोगियों से अच्छी तरह विचार विमर्श कर ले।  जब पिछली बार बिन्नी नाराज हुए थे तो उस वक़्त आप के बड़े नेताओं ने और खुद श्री अरविन्द केजरीवाल ने मेडिया के सामने ये कहा था कि, बिन्नी ने मंत्री पद नहीं माँगा था और न ही वो नाराज थे।

AAP Government in Delhi

किन्तु कल श्री केजरीवाल ने प्रेस के सामने कहा कि बिन्नी ने पिछली बार मंत्री पद माँगा था, इस एक बात पर मीडिया और जनता ने काफी ध्यान दिया है और इस बात से पार्टी कि छवि को कुछ समस्या तो हो ही सकती है। ऐसी ही अनेक विरोधाभासी बातें रोज सामने आ रही हैं जो पार्टी के लिए ठीक नहीं हैं।

अभी हाल ही में आप में प्रवेश करने वाले कैप्टन गोपीनाथ  भी पार्टी की दिल्ली में रिटेल आउटलेट्स कि पालिसी से सहमत नहीं हैं, आम आदमी पार्टी ने हाल ही में दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के पहले के फैसले को उलट दिया था। अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली में FDI पर रोक लगाई और वैकल्पिक राजनीती करने वाले केजरीवाल और लोकसत्ता के अध्यक्ष जयप्रकाश नारायण में मतभेद हो गया। JP इस इस कदम की आलोचना करते हुए कहा की ये फैसला लोकप्रिय हो सकता है लेकिन इससे किसानो का नुकसान होगा, हालांकि राष्ट्रीय स्वाभिमान आन्दोलन के अध्यक्ष KN गोविन्दाचार्य ने केजरीवाल के इस कदम का स्वागत किया और इसे एक साहसी कदम बताया

एक और आक्रमण आम आदमी पार्टी को झेलना पड़ रहा है पार्टी में नयी शामिल हुईं मशहूर नृत्यांगना मल्लिका साराभाई कि तरफ से जिन्होंने कुमार विश्वास की कुछ बातों से खुलेआम मीडिया में विरोध प्रकट किया है।

आम आदमी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को ये समझना होगा की अगर उसे अपनी पकड़ मज़बूत करनी है तो उसे पार्टी के जमीन से जुड़े हुए समर्पित कार्यकर्ताओं की बात सबसे पहले सुननी होगी, साथ ही हर नए आने वाले चेहरों की भरपूर संज्ञान लेना होगा, उनसे ये पूछना होगा की अगर पार्टी उन्हें टिकट नहीं देगी तो उसपर उनका क्या स्टैंड होगा।  साथ ही लोकसभा के टिकिट वितरण में पार्टी के संघर्ष के दिनों के साथियों कि बात को ध्यान से सुनना होगा उनकी राय लेनी होगी।  आम आदमी पार्टी यदि अभी भी मंथन करे तो स्थिती अभी भी उसके पक्ष में है, लोग अभी भी आप पार्टी को आशा भरी नज़रों से तक रहे हैं

इस्माइल।।

Pictures: http://www.livemint.com/ and www.jagran.com

Author is solely responsible for his/her views in article, Awaz Aapki may or may not subscribe to the views in this article

Share this:

PinIt

About ishmile khan

A Pen is always mightier then a Sword; that's what Ismail believes. He operates many blogs, social sites pages and writes for social issues & causes. Active member of PETA, AHRC, Greenpeace, Save arctic, world peace organizations and similar fields.

Top